A BOOK ON FINANCIAL LITERACY – RICH DAD POOR DAD (HINDI)

Rich Dad Poor Dad
Book:- Rich Dad Poor Dad

 

A BOOK ON FINANCIAL LITERACY – RICH DAD POOR DAD (HINDI)

 

वित्तीय साक्षरता कौशल और ज्ञान का उपकरण है जो आपको अपनी आय को बचत और धन में परिवर्तित करने की क्षमता प्रदान करता है । आम तौर पर हमारे कॉलेज की शिक्षा हमें वित्तीय शिक्षाओं के बारे में नहीं सिखाती है।

 

इसलिये एक व्यक्ति अत्यधिक शिक्षित भी, पेशेवर रूप से सफल पर आर्थिक रूप से अनपढ़ हो सकता है । तो नौकरी मिलने के बाद, हमारे पास हमारी आय को बचत और धन में बदलने की क्षमता नहीं होती है।

 

इससे हमारे बच्चों की शिक्षा और विवाह के दौरान समस्याएं बढ़ जाती हैं। वर्तमान में नई पेंशन योजना सभी सरकारी सेवाओं में अपनाई गई है, इसका मतलब है कि पहले की तरह पर्याप्त मासिक पेंशन राशि नहीं मिलेगी ।

 

 

इसलिए सेवानिवृत्ति के बाद सरकारी कर्मचारी की बहुत दुखद स्थिति होगी। लेकिन अगर आप वित्तीय साक्षर बन जाते हैं, तो स्थिति में सुधार होगा। इस लेख में, मैंने वित्तीय साक्षरता के लिए एक किताब से कुछ बिंदु समझाया है। तो इस पुस्तक को खरीदें और अच्छी तरह से पढ़ें।

 

1. वित्तीय साक्षरता जीवन की चूहा दौड़ की चिंता कम करती है । चूहा रेस का मतलब है, जन्म, शिक्षा, नौकरी, शादी, बच्चे, बच्चों की शिक्षा, नौकरी और विवाह, सेवानिवृत्ति और अंतिम में मौत । ज़िंदगी हम सबको धक्का मारती है लोग तीन तरह इसका सामना करते हैं

* हार मानकर सहन करते जाते है ।

* गुस्सा होकर अपने बॉस,लाइफ पार्ट्नर या समाज को धक्का मरते हैं ।

* वे ज़िंदगी से सबक लेकर नया स्किल सीखते हैं ।

 

A BOOK ON FINANCIAL LITERACY – RICH DAD POOR DAD (HINDI)

2. कराधान प्रणाली के बारे में जानें और अपनी आय को बचाएं ।

 

3. यह सूचना युग है. जिसके पास जितना ज़्यादा और जल्दी सूचना आएगी वो उतना पवरफुल होगा. इसलिए नये तकनीक को सीखना ज़रूरी है ।

 

 

4. पाँच कारण जिनके वजह से लोग पैसे की समझ के बावजूद पैसे नही बना पाते हैं ।

* अनुशासन की कमी ।

* कुछ नया करने से या पैसे खोने का डर ।

* आलस्य ।

* बुरी आदतें ।

* मानसिक लचीलेपन की कमी ।

 

5. ईमानदार, उर्जावान और मेहनती दोस्तों का ही संगत करें ।

 

6. एक मजदूर नहीं प्रबंधक बनना सीखना ज़रूरी है – मतलब है, आप की तुलना में अधिक प्रतिभाशाली लोगों का प्रबंधन करना है ।

 

7. विलासिता और आवश्यकता के बीच अंतर को समझे, इससे आप अपने बचत बढ़ा सकते हैं बचत वेतन का 20-40% तक होना चाहिए ।

 

8. पैसे को शेयर बाज़ार में इनवेस्ट करना सीखें जहाँ पैसा आपके लिए 24 घंटा काम करता है ।

 

9. ऋण पर संपत्ति खरीदने से बचें, क्योंकि यह आपकी अधिकांश कमाई खाती है । इसके बाद आपके पास पैसे ही नही बचते हैं कुछ भी नया करने के लिए ।

 

DISCLAIMER

Above shown images used for illustrative purposes only. No Copyright infringement intended.

 

You can put your queries on email- amitsrahul@gmail.com

rahulrainbow

2 thoughts on “A BOOK ON FINANCIAL LITERACY – RICH DAD POOR DAD (HINDI)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *